Search Bar Design
Trimbak Mukut

Panditji in Trimbakeshwar Shiva Temple

"Thanks for having our services. we help you to fullfill spritual need "
trimbak Mukut
Search Bar Design
Pandit ji Profile
Id Code : QRU
Name: Kishor Dixit
Age: 57 Years
Experience: 40 Years
PUJA OFFER
  1. Narayan Nagbali
  2. Tripindi Shradh
  3. Kaal Sarp Yog
  4. Kumbh Vivah
  5. Mahamritunjay Jaap
  6. Rudra Abhisheka
Click To Call
Click To Chat
Click To Chat
Click To Book

I am tamrapatradhari panditji. I am the holder of tamparpatra. Tamprapatra is ancient scripture which provides panditji purohit official right to perfome pujas in Trimbakehswar. I am official member of purohit sangh and have birth right as I belong from precious legacy of purohits from ages. Surely, I am authentic source where you can perform your poojas authentically and by proper spiritual tradition. Tamrpatra holds the special position as it provides authencation and certification to purohits of trimbakehswar temple. May lord shiva bless you!

Y. Naga Muneendra Babu
Date : 15 Apr '22
Guruji

I want to perform Narayana Nagbali Pooja in May. Please send me the dates and the amount for Pooja

DHARMENDRA CHAHRA
Date : 12 Jul '22
Very Good Puja of Kaal sarp Yog

Pandit Shri Kishor Dixit is very Generous and genuine Panditji, he has performed all the Pooja in a very nice manner, explained everything to us in detail My best regards to him. Om namah shivay…

प्रकाश चौरे, लखनऊ, उत्तर प्रदेश।
Date : 04 Aug '22
नारायण नागबलि और त्रिपिंडी श्राद्ध विधि।

हमने त्र्यंबकेश्वर में श्री किशोर दीक्षित पंडित जी से नारायण नागबली और त्रिपिंडी श्राद्ध अनुष्ठान किया। पुरोहितसंघ गुरुजी त्र्यंबकेश्वर के स्थानीय निवासी हैं। उनके पास इतिहास का तांबे का पत्र है। सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें यहां अनुष्ठान करने का पूरा अधिकार दिया है, और वे वंशानुगत परंपराओं के अनुसार यहां अनुष्ठान कर रहे हैं। गुरुजी को हमने त्र्यंबकेश्वर वेबसाइट के माध्यम से ऑनलाइन पूजा बुक की। उन्होंने हमें मुहूर्त के अनुसार त्रयंबकेश्वर आने को कहा। गुरुजी ने पूजा के लिए आवश्यक सामग्री अपनी विधि के अनुसार प्रस्तुत की। इनकी पूजा विधि पारंपरिक शास्त्रों के अनुसार है। उन्हें नारायण नागबली और त्रिपिंडी श्राद्ध अनुष्ठानों के बारे में बहुत अच्छी तरह से सूचित किया गया था। नारायण नागबली पूजा और त्रिपिंडी श्राद्ध अनुष्ठान क्या है? और यह पूजा क्यों और कब की जाती है? इसे पूरी व्याख्या के साथ समझाया गया था। कालसर्प दोष, महामृत्युंजय जप, कुंभ विवाह, रुद्राभिषेक जैसी विभिन्न पूजाओं को करने के लिए लोग कई राज्यों से उनके पास आते हैं। पूजा करने से बड़ी संतुष्टि मिली। धन्यवाद गुरुजी।

Copyrights 2020-21. Privacy Policy All Rights Reserved

footer images

Designed and Developed By | AIGS Pvt Ltd

whatsapp icon