Search Bar Design
Trimbak Mukut

"One of the divine Jyotirlinga among Twelve Jyotirlingas in India"
trimbak Mukut
Search Bar Design

What is Meaning of Meditation, Concentration & Contemplation | How to do Meditation?

Meditation-concentration

The old Yoga Shastras (spiritual sciences of Divine communion) of Bharat have outlined various methods to attain Self-realization. In the wake of awakening, the sleepy Kundalini Shakti was one of the methods.

Controlling breath stimulates the Kundalini Shakti (dormant spiritual energy in the human body). It's gradually pushed up to the top of a mountain, where it joins that of the Sahasrara Chakra (thousand-petalled lotus, which is situated within the cerebral cortex).

Concentration - Contemplation - Meditation

The primary force in every human being is referred to as consciousness. Integrating this consciousness with the Universal Consciousness has been described as 'Liberation' Vedanta (the final essence of Vedas).

Today, various forms of meditation are promoted both across India and worldwide. Many people mistakenly associate Dhyana (meditation) and Ekaagrata (concentration). There is no connection between them.

What does concentration mean?

Concentration is a regular event in all types of human activity like walking, reading, or eating. What is the reason to sacrifice time and effort to accomplish something naturally occurring? What we must find out is how this focus occurs.

This is a book that one can hold in the palm of your hand. It is seen through our eyes. As soon as we look at it, we can look at the letter. Once we read the letter,

The mind attempts to comprehend the meaning of the word and to meditate on the meaning in the brain.

The hand that holds this book represents a part of the body. The eyes that view it are an organ of senses. The brain can comprehend and retains the memory of the sense organs. It is the coordinated actions of all the organs which allows us to study any matter. The concentration process is achieved at the lowest level of the organs that sense.

Chakras of Kundlini

Meaning of Meditation & Contemplation

Meditation is a practice that occurs beyond the senses. Between concentration on the sensory level & meditation that transcends the senses, there's a line of demarcation between the two. Chintana (contemplation) takes place.

Contemplation is the second part of Chit (intelligence) which's another function is to differentiate between right and wrong.

A picture will help clarify this. The rose plant is with leaves, branches and flowers, and thorns. The location of the flower is flower requires focus. At this moment, we're concerned with finding the flower. The flower must be gathered and not touch the thorns. The flower is love, Lust is the thorn, And there isn't a rose that is not thorn-free.

The issue is how to reach the blossom of love without touching the thorns of Lust.

This is why contemplation is necessary. Once we've picked flowers, what can we make use of it? By giving that in the name of the Divine.

Meditation is the act of offering flowers in the form of love in the direction of the Divine. The rose plant that is part of our body there's the pure rose of sacred love, emitting the scent of positive qualities.

Under the rose, however, some thorns take the form of desires for sensual pleasures. The goal of meditation is to remove the selfless love rose from the world of sensual desires and to offer that to our Lord.

Dhyana (meditation) has been recognized as a significant part of Bharat from ancient times. Today, many people go to meditation and consider it a type of medication taken in the event of a headache or other problem.

Meditation isn't an easy task. In the past, the sages Sanatkumara, Narada and Tumburu took part in meditation to stimulate their Kundalini Shakti and lead it towards the Sahasrara Chakra. Meditation is a practice of cultivating pure and selfless love by letting go of all attachments and attachments to worldly objects.

How to do Meditation?

  • Even when sitting in meditation, one must follow specific guidelines.
  • The first requirement is sitting in the Padmasana lotus pose.
  • When sitting in the Asana (posture), the person must ensure that the spine is straight and straight without bending that way or the other.
  • Many people are prone to bending their necks when they meditate. This is highly harmful since stopping the ascending Kundalini Shakti at the throat in which some subliminal Naadis (arteries) are operating could affect the whole physical system. Many suffer from mental disorders because of the confusion by your Kundalini Shakti.
  • When meditating, one should not bend inwards. It is also dangerous. The clothing one wears during meditation must be tied loosely so that there is no tension across the abdomen.
  • Eyes must remain focused on the tip of your nose. If eyes are closed, they could rotate in different directions, and the attention could be distracted.
  • Eyes should be open at least halfway. If they're closed completely, the person could be overwhelmed by insomnia.

Before meditating, The mind must be free from harmful ideas and filled with spiritual thoughts. This requires control over the various sense organs. One should teach the ears to pay attention only to things related to the Divine and stay clear of gossip. One should instruct that eyes can be able to see god.

One should keep the mind from restlessness by focusing on breathing by relating exhalation and inhalation to the repeated Mantra"om". This way, the breath of life is controlled. This is a demonstration of the effectiveness of Yoga.

There is no requirement to do an exercise separate from awakening your Kundalini Shakti. The process of breathing control alone will accomplish this aim.

What are 3 Types of Meditation

Certain people utilize Jyoti (lamp) to serve as a base to meditate. The lamp shows the unity, which is the source of the Unity of the Divine, and the diversity reflected in Divine manifestations. The feeling of bliss doesn't occur immediately.

There are three phases in this kind of meditation. 

  1. Uuha (imagining that form)
  2. Bhava (experiencing the form) and
  3. Sakshatkara (seeing the form as a real thing).

For example, if one wants to meditate on the god of lord shiva, one first attempt to imagine the image of Lord Shiva in the form he has seen earlier, using eyes that are dosed. The image disappears after several minutes. The process is more prolonged when you experience the figure, and the impression lasts longer. In this way, it is possible to visualize the person from head to foot and from the feet upwards.

Gradually, the image of Lord Shiva gets embedded and becomes an internal reality as a result of the process. However, the process of imagining provides only a glimpse of the future The process of experiencing results in the total recognition of the seeker in god's form. The awareness of the Divine leads to entanglement in god. Divine (Brahmavid Brahmaiva Bhavati).

What's happening to our minds when we experience God's Divine Form? The mind experiences every aspect of the Lord From head to toe and eventually is one with the form.

The mind's connection with god or the Divine form makes up the authentic meditation practice. Meditation is not a process of merging the forms within the mind. It is the process of merging the mind with the form that the mind in its entirety does not exist.

Consistent efforts are required to effectively meditation.

While sitting to meditate in the group, one must not be within contact with any other person. This is crucial.

Meditation is similar to the procedure of electrifying a wire. If the live wire comes into contact with anything, it will cause an electric shock.

When you meditate, it is possible to generate spiritual energy. How does this energy get lost? It's lost through the fingernails and the hairs on the body. This is why the old Yogis (spiritually advanced individuals) permitted their hair and nails to grow naturally. one must conserve spiritual energy through all methods.

The Rishis (saints) practiced silence to conserve speech-related energy.

Avoid developing too close an intimate relationship with each other. This type of relationship can result in intimate friendships, which create expectations and obligations. These are the basis for the feeling of the ego.

If expectations aren't met, and resentment is triggered, one can feel it. If they are realized, then the ego becomes inflated. Whatever the case, the results of pursuing desires that are not desirable.

Benefits of Meditation

If resentment is escalating and anger increases, the ability to discriminate is reduced. One loses control of his mouth and engages in various forms of intoxication. The abuse can lead to sinful behavior. The entire process is triggered through a disproportionate association with each other.

Chakras of MeditationYoung people are prone to allow their minds to wander and forth. They should focus on their study and not allow their minds free reign. Take a step back from their daily issues and devote time for meditation each morning and night.

This can help purify their minds and get them on the path of Divinity, just like the river that disappears into the water, so the human mind needs to be merged with the Divine. There will then be no thoughts in the world. One can attain the blissful state only by following the pathway of love. The love of God is God. Be in love.

Realization of the power of love is the ultimate goal of meditation. This love is selfless and is devoted to the Divine. The methods of meditation vary, but the aim is a single one.

Realization

It is essential to realize that not everyone follows the same method or pattern in meditation. It is different based on the individual's development, each person's circumstances, and their capacity and commitment.

Some revere god as the supreme Universal Mother, while others consider God the Almighty as Father. Some consider god the supreme god, and some devotees see the Divine as the Beloved.

Jayadeva, Gauranga, and Ramakrishna Paramahamsa belong to the last category. They didn't practice meditation and experienced that god was with them everywhere. God everywhere.

Where would they go for meditation? That was what they experienced. For the real Sadhaka, the evidence of the omnipresence of god can be seen everywhere. Simply closing one's eyes, one is not able to meditate. One must be able to feel one's union with god in the inner self.

The mind is like foods are for our bodies. As healthy food provides energy and strength for the body, prayer cleanses the mind and strengthens the spirit.

The ego is bloated when Bhajans (devotional tunes) are performed strikingly. Young people should move from Tamas (ignorance's darkness) towards Tapas (spiritual repentance).

They need to be determined in the pursuit of what they pick up.

There is no point in having a meditation session for two days, only to give it up after day three. Meditation should become an essential part of your life.

It is essential to acquire all the skills and knowledge needed for an occupation or profession.

02 May '22 Monday

Shri Krishna Janmashtami 2022 | Janmashtami Bhajan & Arti Lyrics | List Of Samagri

Shri Krishna Janmashtami

Shri Krishna Janmashtami, 2022

Krishna Janmashtami falls on Thursday, 18 August 2022

Nishita Puja Time – 12:03 AM to 12:47 AM of Aug 19

Duration – 00 Hours 44 Mins

Dahi Handi festival is celebrated on Friday, August 19

Krishna Janmashtami Story (Katha)

Krishna Janmashtami is the festival to commemorate the birthday of Lord Shri Krishna, who is the avatar of Lord Vishnu. He is believed to have come into the world approximately 5000 years ago, in Mathura in the 'Dwapar Yuga'.

Krishna Janmashtami is also known as Ashtami Rohini, Srikrishna Jayanti, Krishnashtami, Saatam Aatham, Gokulashtami, and sometimes simply as Janmashtami. It is, in essence, a Hindu celebration.

The festival is usually celebrated on Ashtami Tithi, the 8th day in the Dark Half, or Krishna Paksha, the name given to the month Bhadrapada according to the Hindu calendar, which is the month when you can see that Rohini Nakshatra is in the ascendency. According to the Gregorian calendar, it is typically during both August and September.

The celebration is celebrated with enthusiasm and energy by Hindus across India and worldwide. The people observe a fast throughout the day, sing songs, and offer prayers at midnight to celebrate the birth of the Lord. Ras Lila, dramatic reenactments of Krishna's life is a unique feature performed throughout the country as they recreate the flirtatious facets of Krishna's youth.

Another fascinating part of the Krishna Janmashtami is Dahi-Handi, a game played in the temples. This game depicts the playful and fun aspect of Krishna, where teams of young men make human pyramids to climb an overhanging butter pot and then break it.

The Story of Lord Krishna's Birth

Lord Krishna was the son of Devaki and Vasudeva and was the eighth personification of God Vishnu; Lord Krishna was part of the Yadava community of Mathura, Kansa was a king of Mathura and a brother of Devaki. One time, he heard the voice of the sky saying that Devaki's eighth child would be the one to kill him. After hearing the voice from the sky, she was imprisoned by her sisters Devaki and Vasudeva in prison. King Kansa executed six kids of Devaki, and the seventh was miscarried.

The eighth child of Devaki is Lord Krishna. Lord Vishnu instructed Vasudeva to bring the newborn Lord Krishna to Gokul in the home, Yashoda and Nanda's home, to ensure his safety. At the moment of his birth, all personnel in the jail were able to sleep throughout the night.

Then Vasudeva calmly took the baby Krishna to Yashoda's home and later took her newly born daughter to prison. King Kansa executed the young girl because he believed she was the eighteenth child from Devaki; however, the girl was Yogmaya. An assistant for Lord Vishnu. She flew up and informed King Kansa about his death, and then vanished.

Lord Krishna was charming and also intelligent since childhood. Lord Krishna and Balram, his elder brother Balram lived in Gokul village. They later murdered Kansa, the King. Kansa during the battle of Mathura.

Janmashtami Rituals

In India, the birthday of Lord Krishna is celebrated at around midnight. The devotees decorate the temple and idol of Lord Krishna with fresh flowers on the day of the festival. The devotees dress in unique costumes to honor Lord Krishna during Janmashtami. They also offer him sweets and fruits. Specially designed swings are made for the baby Lord Krishna in certain temples.

Many people fast or consume fruit and then spend the entire day singing to praise Lord Krishna. The temples in Gokul and Mathura are of particular significance on Krishna Janmashtami day, so devotees crowd the temples during the celebration days. Followers of Lord Krishna are also dancing and exchanging gifts to celebrate joy on the occasion of the birthday of the Lord.

Janmashtami Celebration

The state of Gujarat is home to Lord Krishna. On Janmashtami, Dwarka city is big celebrations, and many tourists come to see it. The temples of Vrindavan are the scene of a lavish and colorful celebration of celebration. Celebrations are celebrated on a grand scale in every Krishna temple across India and are mainly located in Vrindavan, Mathura in Uttar Pradesh, and Dwaraka in Gujarat. Other famous regional Krishna temples also commemorate Janmashtami in grand pomp and grandeur.

On the most auspicious date of Janmashtami, the infant's idol Krishna is bathed in the midnight sun and placed in the form of a cranny. The idol is then decorated with jewelry, flowers, and a tiny "mukut" which is a crown. It is then put in the cradle. Everyone then swings the cradle to the tune of Bhajans or praise songs.

The atmosphere is full of joy and excitement when everyone celebrates the birth of Vishnu's avatar, who was born to provide security to the human race that is suffering. In the end, "Naivedya" is presented to God and given to everyone.

The Naivedya or Prasad is a combination of rice puffed and curds, milk, and sugar. Furthermore, many dairy products, particularly butter, which was Sri Krishna's favorite food in his childhood, are offered. Many kinds of fruits are also given to God.

Many Indian sweets are prepared during this time of celebration. There is Laddus, Payasam or Kheer, Shrikhand, and so on. Precisely at midnight, the birth of Krishna is announced by ringing bells and blowing conch shells.

Many women observe a fast all day long and eat meals only after the birth of Krishna. At temples, "Bhajans" – the recitation of hymns of worship, along with "Kirtans" are religious sermons that begin in the early evening and continue until midnight, the time to celebrate the birth of Jesus Christ. Music and singing continue all night.

The following day "Nand Mahotsav" is celebrated to praise Nand, the chief of the cowherds of Nandgaon, where Krishna was born and was a part of his youth.

Celebrations in homes

In homes, people can tie the mango leaves on doors to commemorate the occasion as auspicious. Beautiful "Rangolis " is painted in front of the house. Inside the house, a tiny mandap made of wood is constructed and decorated with flowering plants and leaves.

A statue of a baby crawling Krishna is set in the cradle made of silver, then placed inside the mandap. The Lord Krishna's idol is decorated with flowers and an ornamental crown.

The majority of families observe a "vrat" which is a fast of the day. The fast is observed throughout the day, and only one meal is eaten during the day. It is referred to as the phal ahar and comprises curd, mithai, fruit, (kuttu) Singhare-ki-Puri.

The phal ahar is consumed during the late afternoon (around 3-4 p.m.) alongside coffee and tea. While fasting during this time, consumption of coffee and tea is allowed and may consume at any point in the day.

Krishna Janmasthami Puja Samagri List

The puja materials of Lord Krishna include a cucumber, one chaurang, yellow clean cloth, the idol of Bal Krishna, a throne (sinhasan), panchamrit, gangajal, lamp, curd, honey, milk, ghee, wick, incense stick, gokulashta sandalwood, akshat, tulsi leaf, Makhan, mishri, bhog material.

After the birth of Bal Gopal, keep new yellow robes of Kanha, flute, peacock feathers, Vyjayanthi Mala for the neck, crowns for the head, and bangles for the hands.

Krishna Janmashtami Puja Vidhi

Bal Gopal will be born after 12 o'clock at night. First of all, after bathing with milk, then curd, then ghee, then honey, you are anointed with Gangajal, it is mentioned in the scriptures. The things that have led to the bath of Bal Gopal are called Panchamrit. Panchamrit is distributed as prasad. Then Lord Krishna should wear new clothes.

Also, sing devotional songs after the birth of God. Krishnaji should sit on the asana and make up for him. Put bangles in their hands, vyjayanthi mala around their necks. Then put on a peacock-winged crown on their heads and place their beloved flute with them. Now they should apply sandalwood and akshat and worship with incense lamps.

Then offer other bhog materials along with Makhan Mishri. Keep in mind, that there must be a tulsi leaf in bhog. Make god sit on the jhula and swing the jhula and sing nand ke anand bhayo jai kanhaiya lal ki. You should also worship God overnight.


shri Krishna Janmashtami Wishes

Krishna Janmashtami bhajan in Hindi

हाथी घोड़ा पालकी,जय कन्हैया लाल की।

आनंद उमंग भयो जय कन्हैया लाल की,

नंद के आनंद भयो जय यशोदा लाल की,

आनंद उमंग भयो जय कन्हैया लाल की,

नंद के आनंद भयो जय यशोदा लाल की,

हे ब्रज में आनंद भयो जय यशोदा लाल की,

ए आनंद उमंग भयो जय कन्हैया लाल की,

जय हो नंदलाल की जय यशोदा लाल की,

जय हो नंदलाल की जय यशोदा लाल की,

हाथी घोडा पालकी जय कन्हैया लाल की।।



कोटि ब्रहमाण्ड के अधिपति लाल की,

हाथी घोडा पालकी जय कन्हैया लाल की,

कोटि ब्रहमाण्ड के अधिपति लाल की,

हाथी घोडा पालकी जय कन्हैया लाल की,

ए गौवे चराने आयो जय यशोदा लाल की,

गोकुल मे आनंद भयो जय कन्हैया लाल की,

गैया चराने आयो जय यशोदा लाल की।।



पूनम की चन्द्र जैसी शोभा है गोपाल की,

हाथी घोडा पालकी जय कन्हैया लाल की,

पूनम की चन्द्र जैसी शोभा है गोपाल की,

हाथी घोडा पालकी जय कन्हैया लाल की,

हे आनंद उमंग भयो जय कन्हैया लाल की,

गोकुल मे आनंद भयो जय कन्हैया लाल की।।

भक्त के आनंद कंद जय यशोदा लाल की,

हाथी घोडा पालकी जय कन्हैया लाल की,

भक्त के आनंद कंद जय यशोदा लाल की,

हाथी घोडा पालकी जय कन्हैया लाल की,

गोकुल मे आनंद भयो जय यशोदा लाल की।।



आनंद से बोलो सब जय हो ब्रज लाल की,

हाथी घोडा पालकी जय कन्हैया लाल की,

आनंद से बोलो जय हो ब्रज लाल की,

हाथी घोडा पालकी जय कन्हैया लाल की,

जय हो ब्रज लाल की जय हो प्रतीपाल की,

गोकुल मे आनंद भयो जय कन्हैया लाल की।।



आनंद उमंग भयो जय कन्हैया लाल की,

नंद के आनंद भयो जय यशोदा लाल की,

आनंद उमंग भयो जय कन्हैया लाल की,

नंद के आनंद भयो जय यशोदा लाल की,

हे ब्रज में आनंद भयो जय यशोदा लाल की,

ए आनंद उमंग भयो जय कन्हैया लाल की,

जय हो नंदलाल की जय यशोदा लाल की,

जय हो नंदलाल की जय यशोदा लाल की,

हाथी घोड़ा पालकी, जय कन्हैया लाल की।।

Krishna Janmashtami mantra in Hindi

कृं कृष्णाय नम:

ऊं देवकीनंदनाय विद्महे वासुदेवाय धीमहि तन्नो कृष्ण: प्रचोदयात

ऊं श्रीं नम: श्रीकृष्णाय परिपूर्णतमाय स्वाहा:

क्लीं कृष्णाय नम:

ऊं नमो भगवते वासुदेवाय

Krishna Janmashtami Dates on Upcoming Years

2023

Date: Wednesday, September 6, 2023

Dahi Handi Date: September 7, 2023

2024

Date: Monday, August 26, 2024

Dahi Handi Date: August 27, 2024

2025

Date: Friday, August 15, 2025

Dahi Handi Date: August 16, 2025

Krishna Janmasthami aarti lyrics in Hindi

आरती कुंजबिहारी की,

श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥

आरती कुंजबिहारी की,

श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥

गले में बैजंती माला,

बजावै मुरली मधुर बाला ।

श्रवण में कुण्डल झलकाला,

नंद के आनंद नंदलाला ।

गगन सम अंग कांति काली,

राधिका चमक रही आली ।

लतन में ठाढ़े बनमाली

भ्रमर सी अलक,

कस्तूरी तिलक,

चंद्र सी झलक,

ललित छवि श्यामा प्यारी की,

श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥

॥ आरती कुंजबिहारी की...॥

कनकमय मोर मुकुट बिलसै,

देवता दरसन को तरसैं ।

गगन सों सुमन रासि बरसै ।

बजे मुरचंग,

मधुर मिरदंग,

ग्वालिन संग,

अतुल रति गोप कुमारी की,

श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की ॥

॥ आरती कुंजबिहारी की...॥

जहां ते प्रकट भई गंगा,

सकल मन हारिणि श्री गंगा ।

स्मरन ते होत मोह भंगा

बसी शिव सीस,

जटा के बीच,

हरै अघ कीच,

चरन छवि श्रीबनवारी की,

श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की ॥

॥ आरती कुंजबिहारी की...॥

चमकती उज्ज्वल तट रेनू,

बज रही वृंदावन बेनू ।

चहुं दिसि गोपि ग्वाल धेनू

हंसत मृदु मंद,

चांदनी चंद,

कटत भव फंद,

टेर सुन दीन दुखारी की,

श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की ॥

॥ आरती कुंजबिहारी की...॥

आरती कुंजबिहारी की,

श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥

आरती कुंजबिहारी की,

श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥

08 Apr '22 Friday

श्री राम नवमी २०२२ में कब है ? | श्रीराम अष्टोत्तर शतनामावली | Ram Navami in hindi

श्री राम नवमी २०२२

राम नवमी 2022 में कब है | Ram navami in 2022 in Hindi

हिन्दू पंचांग के अनुसार चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को रामनवमी का पावन पर्व मनाया जाता है, २०२२ में रामनवमी 10 अप्रैल 2022, रविवार को है। नवमी तिथि रविवार 10 अप्रैल 2022 को सुबह 1:32 से शुरू होकर सोमवार 11 अप्रैल 2022 को दोपहर 3:15 बजे समाप्त होगी। इस दिन पूजा का शुभ समय 10 अप्रैल को सुबह 11.10 बजे से दोपहर 1.32 बजे तक है.

रामनवमी क्यों मनाई जाती है? Why Ram Navami is celebrated?

राम नवमी वह दिन है जब भगवान विष्णु के सातवें अवतार भगवान राम ने अयोध्या की भूमि में मानव रूप में अवतार लिया था। वह विष्णु का अर्धांश है या उसमें भगवान विष्णु के आधे दिव्य गुण हैं। "राम" शब्द का शाब्दिक अर्थ है वह जो दिव्य रूप से आनंदित है और जो दूसरों को आनंद देता है, और जिसके बजेसे ऋषि प्रसन्न होते हैं।

राम नवमी चैत्र (अप्रैल / मई) महीने के गौरवशाली पखवाड़े के नौवें दिन आता है और वसंत नवरात्रि या चैत दुर्गा पूजा के साथ आता है।

इसलिए, कुछ क्षेत्रों में, त्योहार नौ दिनों तक चलता है। इस दिन को भगवान राम के जन्मदिन के साथ ही श्री राम और माता सीता के विवाह दिवस के रूप में भी मनाया जाता है और इसलिए इसे कल्याणोत्सव भी कहा जाता है।

भगवान राम भगवान विष्णु के अवतार हैं जो अजेय रावण से लड़ने के लिए मानव रूप में पृथ्वी पर आए थे।

रावण द्वारा पृथ्वी पर किए गए बुरे कर्मों के बारे में भगवान ब्रह्मा को सभी देवताओं से शिकायतें मिल रही थीं, लेकिन ब्रह्मा ने रावण को इतना आशीर्वाद दिया था कि उसे एक देवता द्वारा नहीं मारा जा सकता था।लेकिन रावण इतना आत्मविश्वासी हो गया था कि उसने कभी किसी आदमी से हमले की उम्मीद नहीं की थी। तो भगवान विष्णु राजा दशरथ के पुत्र राजकुमार राम और रानी कौशल्या के वेश में पृथ्वी पर जाने के लिए तैयार हो गए।

राम नवमी की कहानी | Story of Ram Navami

अयोध्या के राजा दशरथ की तीन पत्नियां थी, कौशल्या, सुमित्रा और कैकेयी। लेकिन तीनों में से किसी ने भी उसे वारिस नहीं दिया, जिसे राजा को अपने राज्य की देखभाल करने और अपने सिंहासन के उत्तराधिकारी के रूप में चाहिए। 

तब महान ऋषि वशिष्ठ ने उन्हें पुत्रकामेष्टी यज्ञ करने की सलाह दी, जो कि संतान प्राप्ति के लिए किया जाने वाला पवित्र अनुष्ठान है। राजा दशरथ की सहमति से, महान ऋषि महर्षि रुष्यश्रुंग ने यथासंभव विस्तार से अनुष्ठान किया।

राजा को पायसम का कटोरा दिया गया और अपनी पत्नियों के बीच पायसम वितरित करने के लिए कहा।राजा ने आधा अपनी बड़ी पत्नी कौशल्या को और आधा अपनी छोटी पत्नी कैकेयी को दे दिया। दोनों पत्नियां अपना आधा हिस्सा सुमित्रा को देती हैं। पवित्र भोजन के इस असमान वितरण के कारण, कौशल्या और कैकेयी दोनों के एक-एक पुत्र हुए और सुमित्रा को जुड़वां पुत्र हुए ।

माता कौशल्या ने श्री राम , माता कैकेयी ने भरत और माता सुमित्रा ने लक्षमण और शत्रुघ्न इन पुत्रो को जन्म दिया। 

यह दिन अयोध्या में अंतिम उत्सवों में से एक था, जहां न केवल शाही परिवार बल्कि सभी निवासियों ने राहत की सांस ली और इस चमत्कार के लिए भगवान को धन्यवाद दिया।

राम नवमी का महत्व | Importance Of Ram Navami

सूर्य को राम वंश का पूर्वज माना जाता है, जिन्हें सौर राजवंश कहा जाता है। (रघुकुल या रघुवंश - रघु का अर्थ है सूर्य और कुल या वंश का अर्थ है परिवार के वंशज). राम को रघुनाथ, रघुपति, राघवेंद्र आदि नामों से भी जाना जाता है।तथ्य यह है कि ये सभी नाम उपसर्ग रघु से शुरू होते हैं, यह भी सुझाव देते हैं कि इसका सूर्य पूजा से कुछ लेना-देना है।

भगवान के जन्म के उत्सव के लिए चुना गया समय वह होता है जब सूर्य अपने चरम पर होता है और अपनी उच्चतम चमक पर होता है। कुछ हिंदू संप्रदायों में, राम नवमी के दिन, प्रार्थना सूर्य (सूर्य) को आमंत्रित करने से शुरू होती है न कि राम को। सूर्य और प्रकाश का वर्णन करने के लिए ”र“ शब्द का प्रयोग कई भाषाओं में बार-बार किया जाता है।

प्रभु श्री राम की सिखाई बातें | Teachings of Lord Shri Ram

रामायण हमें भगवान रामचंद्र के जीवन और उनकी शिक्षाओं पर एक संदेश देती है।रामायण की कहानी अधर्म के खिलाफ धर्म का एक उत्कृष्ट, शाश्वत, सार्वभौमिक संदेश है, तथा दानव के खिलाफ भगवान और बुराई के खिलाफ अच्छाई, इन सभी का प्रतिनिधित्व राम और रावण के युद्ध में किया गया है।

रावण एक ब्राह्मण था; वह एक महान विद्वान थे जिन्होंने शास्त्रीय दर्शन पर कई रचनाएँ लिखीं। वह दिखने में मजबूत, तेज और सुंदर था। लंका के चतुर, सुंदर राजा के रूप में, उसके पास खुश और शांत रहने के लिए आवश्यक सब कुछ था। फिर भी, वह अभिमानी, अभिमानी, लालची और वासनापूर्ण था। उनकी अतृप्त इच्छा ने उन्हें अपनी हर इच्छा को पूरा करने के लिए अधिक से अधिक शक्ति, अधिक धन और अधिक से अधिक महिलाओं को चाहने के लिए प्रेरित किया।

भगवान राम और रावण के बीच एक मुख्य अंतर ये था की: भगवान राम का हृदय देवत्व, प्रेम, उदारता, विनम्रता और कर्तव्य की भावना से भर गया। दूसरी ओर, रावण का हृदय लोभ, घृणा और अहंकार से भरा था। भगवान राम के दिव्य स्पर्श के तहत, जानवर उनके भक्त और उनके दिव्य सहायक बन जाते है और रावण के स्पर्श से मनुष्य भी पशु बन गया।

अपने महान और दैवीय विकल्पों के माध्यम से, श्री राम दुनिया को अर्थ पर धर्म और काम पर मोक्ष चुनना सिखाता है।

भगवान राम सिखाते हैं कि:

एक लड़के के रूप में:( As a Son)

अपने पिता की आज्ञा का आदर और प्रेम से पालन करो। अपने पिता की प्रतिष्ठा के लिए अपने स्वयं के सुखों का बलिदान करें।

एक सौतेले बच्चे के रूप में (As a Stepson)

अगर आपकी सौतेली माँ (या सास) आप पर दया नहीं करती है, जब वह अपने ही बच्चे की ओर से स्पष्ट रूप से आपके साथ भेदभाव करती है, तो उससे नाराज न हों, उससे झगड़ा न करें। उसका और उसकी इच्छाओं का सम्मान करें।

पति के रूप में ( As a husband)

अपनी पत्नी की रक्षा करो। उसकी सुरक्षा और उसकी शुद्धता के लिए लड़ो। लेकिन ऐसे समय होते हैं जब गृहस्थ के मार्ग पर किसी के दिव्य मार्ग को प्राथमिकता देनी चाहिए। गृहस्थ की भूमिका को अन्तिम भूमिका के रूप में न रखें।

एक राजा के रूप में (As A King)

अपने लोगों के लिए सब कुछ प्रदान करें। अपनी खुशी, अपने आराम या अपनी खुशी के बारे में चिंता मत करो। राज्य को अपनी आवश्यकताओं के आगे रखने के लिए तैयार रहें।



रामनवमी के उपवास के लिए मार्गदर्शिका | Fasting Guide for Ram Navami

राम नवमी व्रत राम के भक्तों के लिए नित्य या अनिवार्य है और दूसरों के लिए वैकल्पिक है। यह पंचांग में सबसे प्रशंसनीय व्रतों में से एक है, जो किसी के पापों को नष्ट कर सकती है और यहां तक कि मोक्ष की ओर भी ले जा सकती है।

व्रत की शुरुआत एक रात पहले से ही उपवास से होती है। नवमी के दिन भी व्रत रखना होता है, मंदिर में विशेष रूप से बनाई गई श्री राम की मूर्ति की पूजा और होम करना पड़ता है, राममंत्र का जाप करना होता है और रात को जागरण करना होता है। उपवास को पूरा करने के बाद, उदारता से अन्य उपहारों के साथ पंडितजी को मूर्ति और अन्य दान करे ।

इस दिन तीन तरह के व्रत किए जा सकते हैं।

  • दोपहर तक उपवास रख सकते हैं
  • दिन में एक बार खाएं
  • मध्यरात्रि तक उपवास करना होता हैं
  • चैत्र के पहले दिन से शुरू हो रहे नौ दिवसीय उपवास

उपवास के दौरान एक बार भोजन करते समय इसमें फल और फलों के अर्क ग्रहण कर सकते हैं। वैकल्पिक रूप से, यदि आप पूर्ण भोजन करते हैं, तो इसमें हल्दी, लहसुन, अदरक, या किसी भी प्रकार के प्याज या सब्जियों को छोड़कर किसी भी रूप में बने आलू ग्रहण कर सकते हैं। दही, चाय, कॉफी, दूध और पानी पिने की अनुमति होती है।

भारत में कैसे मनाई जाती है राम नवमी? How india Celebrate Shri Ram Navami?

रामनवमी को विभिन्न तरीकों से मनाया जाता है जैसे भजन कार्यक्रम और पूजा से रथयात्रा और पंडाल कार्यक्रम। घर-घर और मंदिरों में भजन कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। इन कार्यक्रमों के दौरान भगवान राम, लक्ष्मण, सीता और हनुमान की स्तुति में भजन गाये जाते हैं।

कई सारे मंदिरो में रामायण की कथा और रामायण आख्यायिका को प्रस्तुत करते है। 

  • अखंड रामायण का पाठ करते समय तुलसीदास के संपूर्ण रामचरितमानस का जाप किया जाता है, जिसमें आमतौर पर 24 घंटे लगते हैं।
  • सुंदरकांड का जप करने में तीन घंटे का समय लगता है। सुंदरकांड हनुमान के कुछ कार्यों और लंका में सीता के साथ उनकी मुलाकात की चर्चा करता है।
  • मंदिरों में आमतौर पर वाल्मीकि रामायण जप या बड़े पंडाल कार्यक्रम होते हैं जिसमें रामायण की चर्चा नौ दिनों तक की जाती है, उगादी से शुरू होकर राम नवमी पर समाप्त होती है।

Rama Navami 17

भगवान राम की जन्मभूमि अयोध्या में हजारों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं।

मेला दो दिनों तक चलता है और लगभग सभी राम मंदिरों से राम, उनके भाई लक्ष्मण, उनकी पत्नी सीता और उनके परम भक्त महावीर हनुमान को लेकर एक जुलूस निकाला जाता है। हनुमान अपनी राम भक्ति के लिए जाने जाते हैं और उनकी कहानियाँ इस त्योहार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन जाती हैं।

आंध्र प्रदेश में, राम नवमी चैत्र सप्तमी से बहुला पद्यमी तक 10 दिनों तक मनाई जाती है जो मार्च और अप्रैल में आती है। इस घटना को मनाने के लिए, मंदिर भगवान राम और सीता के विवाह का पुनर्निर्माण करते हैं क्योंकि इस दिन उनका विवाह हुआ था।

घर में रामनवमी की पूजा कैसे करे ? | Ram Navami Puja at Home

राम नवमी पूजा विधि

  • यदि पूजा घर पर की जाती है, तो घर को साफ रखा जाता है और पूजा की तैयारी के लिए भगवान राम, लक्ष्मण, सीता और हनुमान की तस्वीरें एक मंच पर रखी जाती हैं।
  • भगवान राम के जन्मदिन पर घर के सभी सदस्य सभी देवी-देवताओं की पूजा करते हैं।भक्त भगवान राम को प्रसन्न करने के लिए फूल, मिठाई और अगरबत्ती चढ़ाते हैं।
  • देवताओं के सामने दो थाली तैयार की जाती हैं।एक थाली में प्रसाद होता है और दूसरी थाली में पूजा के लिए चूड़ियां, एपुन, चावल, पानी और फूल होते हैं।
  • पूजा समाप्त होने के बाद, आरती की जाती है और पूजा का पवित्र जल भक्तों पर भगवान के आशीर्वाद के संकेत के रूप में छिड़का जाता है।

श्रीराम अष्टोत्तर शतनामावली लिरिक्स (Shri Ram Ashtottar Shatanamavali lyrics in Hindi)

ओम श्रीरामाय नमः

ओम रामभद्राय नमः

ओम रामचंद्राय नमः

ओम शाश्वताय नमः

ओम राजीवलोचनाय नमः

ओम श्रीमते नमः

ओम राजेंद्राय नमः

ओम रघुपुनगवणाय नम:

ओम जानकीवल्लभय नमः | ९

ओम जैत्राय नमः |

ओम जितामित्राय नमः |

ओम जनार्दनाय नमः |

ओम विश्वामित्रप्रियाय नम: |

ओम दंताय नमः |

ओम शरणात्राणतत्पराय नमः |

ओम वालिप्रमथनाय नमः |

ओम वाग्मिने नमः |

ओम सत्यवाचे नमः | १८

ओम सत्यविक्रमाय नमः |

ओम सत्यव्रताय नमः |

ओम व्रतधाराय नमः |

ओम सदाहनुमदाश्रिताय नमः |

ओम कौसलेय नमः |

ओम खराध्वंसिने नमः |

ओम विराधवधपण्डिताय नम: |

ओम विभीषणपरित्रात्रे नम: |

ओम हरकोडांडंडअखंडनाय नमः | २७

ओम सप्ततालप्रभेत्तरे नमः |

ओम दशग्रीवशिरोहराय नमः |

ओम जमदग्न्यमहादर्पदालनाय नमः |

ओम ताटाकांतकाय नमः |

ओम वेदांतसाराय नमः |

ओम वेदात्माने नमः |

ओम भवरोगस्यभेषजया नमः |

ओम दूषणात्रीशिरोहंत्रे नमः |

ओम त्रिमूर्तये नमः | ३६

ओम त्रिगुणात्मकाय नमः

ओम त्रिविक्रमाय नमः

ओम त्रिलोकात्मने नमः

ओम पुण्यचरित्रकीर्तनाय नमः

ओम त्रिलोकरक्षकाय नमः

ओम धनविने नमः

ओम दण्डकारण्यकर्तनाय नमः

ओम अहल्याशापशमनाय नमः

ओम पितृभक्ताय नम: | ४५

ओम वरप्रदाय नमः

ओम जितेंद्रियाय नमः

ओम जितक्रोध्याय नमः

ओम जितामित्राय नमः

ओम जगद्गुरावे नमः

ओम ऋक्षवानरसंघतिने नमः

ओम चित्रकुटसमाश्राय नमः

ओम जयंतत्राणावरदाय नमः

ओम सुमित्रापुत्रसेविताय नमः | ५४

ओम सर्वदेवााधिदेवाय नमः

ॐ मृतवनराजिवनाय नमः

ओम मायामारिकाहंत्रे नमः

ओम महादेवाय नमः

ओम महाभुजय नमः

ओम सर्वदेवस्तुताय नमः

ओम सौम्याय नमः

ओम ब्रह्मणाय नमः

ओम मुनिसंस्तुताय नमः | ६३

ओम महायगिने नम |

ओम महोदराय नम |

ओम सुग्रीवेप्सितराज्याद्य नमः |

ओम सर्वपुण्‍याधिकाफलाय नमः |

ओम स्मृतसरवाघनाशनाय नमः |

ओम आधिपुरुषाय नम |

ओम परमपुरुषाय नम: |

ओम महापुरुषाय नम |

ओम पुण्योदयाय नमः | ७२

ओम दिनसाराय नम |

ओम पुराणपुरुषोत्तमाय नम: |

ओम स्मितावक्त्राय नमः |

ओम मिताभाषिणे नमः |

ओम पूर्वभाषिणे नमः |

ओम राघवाय नम |

ओम अनंतगुणगंभीराय नमः |

ओम धीरोदत्तागुणोत्तमाय नम: |

ओम मायामानुषाचारित्रया नमः | ८१

ओम महादेवादिपूजिताय नमः

ओम सेतुकृतते नम:

ओम जितावराशये नमः

ओम सर्वतीर्थमयाय नमः

ओम हरये नमः

ओम श्यामांगाय नमः

ओम सुंदराय नमः

ओम शुराय नमः

ओम पितावससे नमः | ९० 

ओम धनुर्धाराय नमः

ओम सर्वयज्ञाधिपाय नमः

ओम यज्विने नमः

ओम जररामरणवर्जिताय नमः

ओम विभीषणप्रतिष्ठात्रे नमः

ओम सर्वगुणवर्जिताय नमः

ओम परमात्माने नमः

ओम परस्मै ब्रह्मणे नमः

ओम सच्चिदानंदविग्रहाय नमः | ९९

ओम परस्मै ज्योतिषे नमः

ओम परस्मै धामने नमः

ओम परकाशया नमः

ओम परात्पराय नमः

ओम परेशाय नमः

ओम परगाय नमः

ओम पराय नमः

ओम सर्वदेवात्मकाय नमः

ओम परस्मै नमः | १०८

14 Mar '22 Monday

गंगा नदी त्र्यंबकेश्वर में कैसे प्रस्थापित हुई ?

गंगा नदी त्र्यंबकेश्वर में कैसे प्रस्थापित हुई ?

माँ गंगा शिवजी से जटाओं में कैसे विराजमान हुई ?

शिवजी के जटाओंमें गंगाजी कैसे प्रस्थापित हुई इसके बारे मे एक रोचक कथा पुराणों में दी गयी है। जब शिव जी और माँ पार्वती का विवाह संपन्न हो रहा था ,उस विवाह में सभी देव देवता गण उपस्तिथ थे। उस विवाह के समय ब्रम्हाजी वहा मौजूद थे ,और माता पार्वती का रूप देखकर उनको मोह हुआ। उस कारन से वो अति लज्जित हुए और वहासे निकल गए

बादमे फिर उन्होंने शिवजी को प्रसन्ना करने के लिए तपश्चर्या की ,शिव जी ने उन्हें उस पातक से मुक्ति के लिए त्रैलोक्य के सभी तीर्थो का जल एक कमण्डलु में उनके पास दिया। और उस कमंडलु को उनको धारण करने को कहा। बादमे ब्रम्हदेव ने अपने पापोंका शालन करने के बाद कमंडलु अपने पास ही रखा।

जब भगवान विष्णु ने वामन अवतार धारण किया था तब ब्रम्हा जी ने उसी जल से उनकी पद्य पूजा की थी।

जब समुद्रमंथन हुआ था ,उसमे से हलाहल विष निकला था। भगवन शिव ने उसे जगत्कल्याण के लिए प्राशन किया था। उसके बजेसे भगवान शिव के शरोर का दाह बढ़ गया।

दाह को काम करने के लिए शिवजी ने ब्रम्हा जी ने दिया हुआ जल अपने जटाओमें धारण कर लिया जिसे हम माँ गंगा के नाम से जानते है।

एक दूसरी कथा ऐसी है की माँ गंगा भगवान शिव से विवाह करना चाहती थी उसलिए माँ गंगा ने भी तपशचर्या करके भगवन शिव को प्रसन्ना किया पर शिव जी से गंगाजी की मांग स्वीकार नहीं की। और शिवजी ने उनको अपनी सर के ऊपर धारण करने का वचन दिया इसलिए गंगाजी शिवजी के जटाओं में प्रस्थापित है।

गंगा नदी धरती पर कैसे औतारित हुई ?

माँ गंगा धरती पर २ बार औतारित हुई। पहली बार गंगा नदी धरती पर कैसे औतारित हुई उसके बारेमें जानते है। त्र्यंबकेश्वर क्षेत्र में गंगा को गोदावरी नाम से जाना जाता है कुछ लोगो इसे गौतमी गंगा कहते है ,ये दक्षिण वाहिनी होने के कारन ऐसे दक्षिण गंगा भी कहा जाता है।

गंगा जी को जब शिवजी ने अपनी जटाओं में धारण किया तो स्वाभाविक रूप से माता पार्वती को बुरा लगा, अपना दुःख कम करने के लिए ये बात माता पार्वती ने अपने पुत्र गणेश जी को बताई। बादमें गणेशजी ,माता पार्वती और उनकी एक दासी “जया “ उन्होंने मिलकर एक योजना बनाई।

उस वक़्त त्र्यंबकेश्वर के प्रदेश में गौतम आश्रम था ,उस आश्रम में दक्षिण देश के सभी ऋषि,मुनि अपने सारे शिष्यगण के साथ यहाँ आकर रुके हुए थे।

दक्षिण देश में उस वक़्त अकाल पड़ा था। इसलिए बाजु के आश्रम के जितने भी ऋषि मुनि थे वो यहाँ आकर रुके हुए थे। क्युकी गौतम ऋषि के आश्रम में अकाल नहीं था, उनकी चावल की खेती थी जो अच्छी तरह से फल फूल रही थी।

तो योजना ऐसी बनी की पार्वती माता की दासी ने गाय का रूप लेना है। और गाय का रूप लेके गौतम ऋषि की खेती में जाकर धान को खाना था। बादमे जब गौतम ऋषि गाय को भगानेकी कोशिश करेंगे तो गाय को मूर्छित होकर मृत होना है। गणेश जी इससे पहले आश्रम में ब्राम्हण पंडित के रूप में आकर रहने लगे थे और गणेश पंडित के नाम से प्रख्यात थे।

जब समय आया तो योजना के अनुसार जया गाय का रूप लेके खेत में धान खाने को गयी ,गौतम ऋषि ने तब उनके हाथ के ढाभ थे यानि कुश थे। उन्हीने उसकी तीलियों से उसको भगाने की कोशिश की तो गाय मृत होगयी। और ऋषि गौतम को गोहत्या का पाप लग गया।

उस पाप से मुक्त होने के लिए गौतम ऋषि ने अपने आश्रम के बाकि ऋषिओ से मार्ग पूछा तो गणेश पंडित ने तब मार्ग बताया की भगवान शिव के जटाओसे बहने वाली गंगा के जल से स्नान करने से आपके पापको से मुक्ति मिलेगी।

ऋषि गौतम ने उसके बाद वर्षो तक भगवान शिव को प्रसन्ना करने के लिए ब्रम्हगिरी पर्वत पर तपश्चर्या की। तब भगवान शिव ने प्रसन्ना होके उनको वर मांगने को कहा तो गौतम ऋषि ने उनको सारी घटना बतायी और माँ गंगा के जल में स्नान करने को इच्छा जताई। और उनकी इच्छा भगवान शिव ने मान्य की और ब्रम्हगिरी पर्वत पर गंगा नदी औतारित की।

गंगा गोदावरी का उगम एक औदुम्बर के पेड़ के निचे से प्रवाहित होता है। पर गंगा नदी वहा से लुप्त होती रही. फिर वो गंगाद्वार पर्वत पर प्रकट हुई और वहासे भी लुप्त होगयी।

माँ गंगा वहापर अकेले रहने के लिए तैयार नहीं थी वो शिव भगवान को आग्रह कर रही थी की आप भी त्र्यंबकेश्वर में मेरे साथ वास्तव्य करे।

फिर गौतम ऋषि ने तंग आकर कुश (दर्भ ) के माध्यम से एक कुंड तैयार किया और अपने मंत्रो से गंगा जी को वह आमंत्रित किया। जिसको आज कुशावर्त कुंड नाम से जानते है। गंगा कुशावर्त कुंड में प्रस्थापित होने के बाद गौतम ऋषि ने अपने पातको को मिटाने के लिए वह स्नान किया।

08 Mar '22 Tuesday

कुशेश्वर महादेव, कुशावर्त तीर्थ , त्र्यंबकेश्वर। Kusheshwar Mahadev , Trimbakeshwar

kusheshwar mahadev trimbakeshwar

कुशेश्वर महादेव, कुशावर्त तीर्थ , त्र्यंबकेश्वर।

 

आज हम त्र्यंबकेश्वर के कुशेश्वर महादेव जी के बारेमें जानेंगे जो कुशवर्त तीर्थ पर स्तिथ है। कुशेश्वर महादेव कुशावर्त तीर्थ के मुख्य देवता है। मुख्य देवता इन्हे इसलिए कहा गया है, जब गोदावरी माता को कुशावर्त तीर्थ के ऊपर आवर्तन करके गौतम ऋषि ने यहाँ बंदित किया था तब माता गोदावरी ने भगवान शंकर जी से कहा था की में यहाँ अकेली नहीं रहूंगी आपको मेरे साथ यहाँ रहना पड़ेगा तब भगवान शिवजी ने यहापर उनका एक स्थान बनाया है जिसका नाम रख दिया है कुशेश्वर महादेव 

इनकी पूजा करने से जितना पुण्य आपको गोदावरी माता की पूजा करने से मिलने वाला है उतना ही फल आपको कुशेश्वर महादेव जी की पूजा करने से मिलने वाला है। 

तो जब भी आप त्र्यंबकेश्वर में आते है तो आप कुशेश्वर महादेव जी के दर्शन अवश्य करे।

kusheshwar mahadev

08 Mar '22 Tuesday

शेषशायी भगवान विष्णु ,कुशावर्त तीर्थ,त्र्यंबकेश्वर। Sheshshahi Bhagwan Vishnu, Trimbakeshwar

Sheshshai vishnu trimbakeshwar

शेषशायी भगवान विष्णु ,कुशावर्त तीर्थ। त्र्यंबकेश्वर 

आज हम त्र्यंबकेश्वर में उपस्थ्ति विविध तीर्थस्थान के बारेमे जानेंगे। कुशावर्त तीर्थ के ऊपर,नैऋत्य कोने में स्तिथ शेषशायी भगवान विष्णु की मूर्ति स्तिथ है। 

शेषशायी इन्हे इसलिए कहा गया है की उनके मूर्ति के निचे पूरी तरहे से शेष (शेषनाग ) है और सर के ऊपर ९ नागो का फन है इसलिए इन्हे शेषशायी कहा गया है। इस में भगवान जी के पैरो की तरफ माता लक्ष्मी जी की भी मूर्ति दिखाई गयी है 

इस स्थान का विशेष महत्व ये है की मूर्ति के निचे गड्ढे में जल भरा रहता है जो की गोदावरी नदी का है। आप जितना भी पानी गड्ढे से निकालोगे उतना पानी फिरसे इस गड्ढे में वापिस भर जाता है। 

इस शेषशायी भगवान का दर्शन करने से सरे भक्तो के कष्ट दूर हो जाते है। 

चातुर्मास के अंदर हर दिन यहाँ शेषशायी भगवान की पूजा की जाती है। इसके साथ ही भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है। इससे भक्तो के ऊपर माता लक्ष्मी का आशीर्वाद और भगवान विष्णु जी की कृपा हमेशा बनायीं रहे इसलिए चातुर्मास के चार महीने त्र्यंबकेश्वर में भगवान शेषशायी की परंपरागत विधिवत यहाँ पूजा की जाती है। तो जब भी आप त्र्यम्ब्केश्वर में आये तो आप भगवान शेषशायी का दर्शन अवश्य करे।

Sheshshahi Vishnu Bhagwan Trimbakeshwar 

08 Mar '22 Tuesday
roll roll

Copyrights 2020-21. Privacy Policy All Rights Reserved

footer images

Designed and Developed By | AIGS Pvt Ltd

whatsapp icon