Search Bar Design
Trimbak Mukut

Articles
"One of the divine Jyotiringla among Twelve Jyotrinlingas in India"
trimbak Mukut
Search Bar Design

गृह प्रवेश पूजा विधि | गृह प्रवेश शुभ मुहूर्त २०२२

गृह  प्रवेश शुभ मुहूर्त 2022

 

वास्तु शांति पूजा और गृह प्रवेश, वास्तु संबंधी दोष की शांति के लिए की जाती है। वास्तुदोष तब होता है जब व्यक्ति गलत जगह पर घर का कोई स्थान निर्माण कराता है। जैसे दक्षिण या पश्चिम दिशा में मुख्य द्वार, मुख्य द्वार के सामने कुआ, मुख्य द्वार खोलते ही सीढ़ियां, उत्तर या आग्नेय दिशा में बेडरूम, देवघर पश्चिम या दक्षिण दिशा में होने से परेशानियाँ उठानी पड़ती है। 

पौराणिक शास्त्रों के अनुसार वास्तु पुरुष की प्रार्थना पर भगवान ब्रह्मदेव ने वास्तु शास्त्र के नियमों की रचना की थी। इसीलिए हर मनुष्य को वास्तु देवता की प्रार्थना एवं पूजन करने के पश्चात ही गृह प्रवेश करना चाहिए। अन्यथा मनुष्य को शारीरिक, मानसिक, आर्थिक हानि होने की तीव्र संभावना होती है।

गृह प्रवेश में किसकी पूजा करनी चाहिए?

गृह प्रवेश के लिए कुलदेवता एवं वास्तुपुरुष का पूजन किया जाता है।

गृह/ वास्तु पुरुष कौन है? 

वास्तुपुरुष हमारे वास्तु के संरक्षक देवता है, जिन्हे वास्तुदेवता भी कहा जाता है। पौराणिक कथानुसार वास्तुपुरुष का जन्म देव-दानव युद्ध के दौरान भगवान शंकर के पसीने की बूंद से हुआ। वास्तुपुरुष विराट रूप में जन्मा होने के कारण अत्यंत शक्तिशाली था। देव-दानव युद्ध में देवता और दानव बहुत घबरा गए। देवताओं ने सोचा की यह विराट पुरुष दानवों की ओर से है, तथा दानवों को लगा की वह देवताओं की ओर से है। 

जन्म लेते ही इस विराट पुरुष को बहुत भूक लगी, उसने भगवान शंकर से वरदान माँगा की उसे तीनो लोक खाने की आज्ञा दे। भोलेनाथ ने तथास्तु कहकर उसे वरदान दे दिया। यह सुनते ही देव-दानव दोनों घबरा गए। यह विराट पुरुष सबसे पहले पृथ्वी को खाने के लिए आगे बढ़ा। सभी देव-दानवों ने साथ मिलकर उस विराट पुरुष को धरती पर गिरा दिया। वह विराट पुरुष धरती पर औंधे मुँह गिर पड़ा उसी समय उसका मुख उत्तर-पूर्व दिशा में तथा पैर दक्षिण-पश्चिम दिशा की ओर थे। 

पैंतालीस देवता एवं राक्षसगणों द्वारा इस विराट पुरुष को पकड़ कर रखा गया था। तभी इस विराट पुरुष को धरती के अंदर रहने की आज्ञा भगवान ब्रह्मदेव ने की, तबसे इसे वास्तुदेवता का मान प्राप्त हुआ है। इस वास्तुदेवता का सर ईशान दिशा की ओर तथा पैर नैऋत्य, भुजाएँ पूर्व और उत्तर दिशा की ओर एवं पाँव दक्षिण और पश्चिम दिशा की ओर स्थित है। यह वास्तुपुरुष पृथ्वी पर अधोमुख स्थिति में स्थित होने से हमें वास्तु का निर्माण करते वक्त इन तथ्यों में सावधानी बरतनी चाहिए।

गृह प्रवेश अथवा वास्तु पूजन क्यों किया जाता है?

जिस घर में परिवार के सदस्यों में छोटी छोटी बातों को लेकर लड़ाई या विवाद होता है, तथा आपसी मनमुटाव के कारण तनाव होता है, वहाँ अपने घर में वास्तु शांति पूजा कराना अनिवार्य होता है। जिन लोगों का घर में किसी भी कार्य में मन नहीं लगता, मन में उदासी रहती है, उन लोगों ने भी वास्तु शांति पूजा करना अति आवश्यक है। यदि घर में वास्तु दोष है तो घर में निवास करने वाले सदस्यों की सेहत पर इसका बुरा असर पड़ता है, ऐसी परिस्थिति में घर में वास्तु शांति पूजा अवश्य की जानी चाहिए। गृह प्रवेश पूजा पद्धति में सर्वप्रथम वास्तु शांति पूजा करना अनिवार्य है। वास्तु शांति पूजन के बाद ही गृह प्रवेश किया जाता है, क्योंकि वास्तु शांति पूजन से वास्तु में आए हुए सभी दोष नष्ट होते है। वास्तुदोष के ख़त्म होने पर वास्तु रहने के लिए सर्वोत्तम होती है। 

उचित मुहूर्त देखकर वास्तु में प्रवेश किया जाता है, जैसे दशहरा, दिवाली, गुढ़ीपाड़वा, अक्षय तृतीया, आदि। अगर आप पहले से ही वास्तु में निवास कर रहे हैं, तब भी आपको वास्तु शांति पूजा करना अनिवार्य है।

गृह प्रवेश अथवा वास्तु पूजन कैसे किया जाता है?

वास्तुपूजन में ये प्रक्रियाएं पूजन का महत्वपूर्ण अंग होती है - स्वस्तिवचन, संकल्प, श्री गणेश पूजन, कलश स्थापना एवं कलश पूज, अभिषेक, सोलहमातृका पूजन, वसोधरा पूजन, नांदीश्राद्ध, आचार्य का वरण, योगिनी पूजन, क्षेत्रपाल पूजन, अग्नेय स्थापना, नवग्रह स्थापना और नवग्रह पूजन, वास्तु मंडल पूजन और वास्तु मंडल स्थापना, गृह हवन, वास्तु देवता होम, बलिदान पूजा, पूर्णाहुति, वास्तुपुरुष-प्रार्थना, दक्षिणा संकल्प, ब्राह्मण भोजन, उत्तर भोजन, अभिषेक, विसर्जन आदि प्रक्रिया की जाती है। वास्तु शांति पूजा के दौरान वास्तु पुरुष की प्रतिमा को घर के पूर्व दिशा में एक गड्ढे में दबाकर स्थापित की जाती है। वास्तु पुरुष की प्रतिमा को हररोज नैवेद्य दिया जाना चाहिए, भूल होने पर पूर्णिमा या अमावस के दिन भी भोग लगाया जाता है। 

गृह प्रवेश पूजा सामग्री लिस्ट 

गृह प्रवेश/वास्तु शांति पूजन सामग्री में
सिक्कें, नारियल, घी, हवन पुडा,

समिधा, आम की सूखी लकड़ियां, सुपारी, शहद,

जौ, हल्दी, लौंग, गुड़, काले तिल, पीली सरसों,

गंगा जल, गुलाब जल, हरी इलायची, साबुत चावल,

बड़ा दीया, चौकी, पान की पत्तियां, पंच मेवा (५ फल),

ताम्र कलश, आटा, रोली या कुमकुम,

पांच तरह की मिठाई, पंचामृत (गंगाजल, दूध, घी, दही, शहद, शक्कर),

रुई, आम के पेड़ की पत्तियां, मौली, पचरंगी नाड़ा,

पीला कपड़ा, अगरबत्ती, उपनयन या जनेऊ,

सुगन्धि फूल और फूलों की माला,

लाल कपड़ा, दही, दूध, धूप बत्ती, कपूर,

बताशे, ५ कौडि़यां।

गृह प्रवेश पूजा विधि 

  • गृह प्रवेश/वास्तु शांति पूजा वाले दिन पति और पत्नी ने उपवास रखना अनिवार्य है। 

  • वास्तु शांति से एक दिन पूर्व ही सारा घर अच्छे से धोकर साफ करना चाहिए। 

  • फूलों की मालाएँ तथा रंगोली से घर को सजाना चाहिए और आवागमन वाले मुख्य दरवाजे पर स्वस्तिक का चिन्ह बनाना शुभ होता है।

  • सर्वप्रथम किसी विद्वान ब्राह्मण द्वारा पूजा में बैठने वाले व्यक्ति को पूर्व दिशा की ओर मुख कर बिठाया जाता है, तथा धर्मपत्नी को पति के बाएँ तरफ बिठाया जाता है। 

  • वास्तु शांति पूजा के लिए मंत्रोच्चारण से शरीर शुद्धि, स्नान शुद्धि एवं आसन शुद्धि की जाती है। 

  • शुद्धिकरण के पश्चात वास्तु शांति पूजा का संकल्प लिया जाता है। 

  • संकल्प के बाद श्री गणपति पूजन किया जाता है।

  • श्री गणेश पूजन के पश्चात ८१ पदों वाले वास्तु चक्र या वास्तु मंडल का निर्माण किया जाता है। 

  • इसके पश्चात अष्टदिक्पाल पूजन करके आठों दिशाओं का पूजन किया जाता है। 

  • जिसके बाद हवन का निर्माण किया जाता है और मंत्रोच्चारण से आहुतियाँ दी जाती है इन आहुतियों में कुलदेवता, नवग्रह देवता, क्षेत्र देवता, ग्रामदेवता का स्मरण एवं पूजन किया जाता है।

  • पूजा के अंतिम चरण में आरती करके श्रद्धानुसार ब्राह्मणों को दान एवं भोजन कराया जाता है। वास्तु शांति का पूजन होने के बाद आप सह परिवार वास्तु में रहने आ सकते है। इस तरह से वास्तु देवता का पूजन करने से परिवार में सुख, शांति, समाधान, स्वास्थ एवं समृद्धि की प्राप्ति होती है।

वास्तु पूजन मंत्र

 

ॐ वास्तोष्पते प्रति जानीहि अस्मान्त्स्वावेशो अनमीवो भवान्:। 

यत्त्वे महे प्रतितन्नो जुषस्व शं नो भव द्विपदे शं चतुष्पदे ।।

 

अर्थ - हे वास्तुदेवता, हम आपकी प्रार्थना करते है। हम आपका आवाहन करते है, हमारी स्तुति एवं प्रार्थना को सुनकर हम सभी उपासकों को व्याधि से मुक्ति दीजिए। इस वास्तु का दोष नष्ट करके इसमें निवास करने वाले हमारे परिवार के सदस्यों को तथा हमारे पशुओं को रहने के लिए आशीर्वाद दीजिए।

वास्तु शांति पूजा के फायदे 

  • वास्तु शांति पूजा के प्रभाव से घर में लक्ष्मी का स्थाई निवास बनता है।

  • घर में रहने वाले सदस्यों को सुख की प्राप्ति होती है। 

  • घर में बरकत रहती है एवं धन से संबंधित सभी समस्याएँ दूर होती है।

  • वास्तु में सदा प्रसन्नता महसूस होती है एवं वातावरण में शांति प्राप्त होती है। 

  • घर में रहने वाले सदस्यों का रोग एवं बीमारियों से बचाव होने से आरोग्य में सुधार होता है।

  • वास्तु की जगह पर स्थित अमंगलता का नाश होता है तथा सभी प्रकार के अनिष्ट दूर होते है।

  • घर में देवी-देवताओं की उपस्थिति होने से भूत-प्रेतादि की बाधाएं दूर भागती है।

गृह प्रवेश शुभ मुहूर्त 2022

कोई भी पूजा करने के लिए जरुरी होता है अच्छा शुभ मुहूर्त। 

गृह प्रवेश शुभ मुहूर्त पंडितजी द्वारा भारतीय पंचाग में शुभ नक्षत्र देखकर आपको दिया जाता है।

 

२०२२ में नीचे दिए गए शुभ मुहूर्त जो गृह प्रवेश और वास्तु शांति के लिए अनुकूल है। 

Feburary/ फरवरी :5 , 10 , 11 ,18, 19, 21

March / मार्च : 26

May / मई : 2, 11, 12, 13, 14, 16, 20, 25, 26, 30

June / जून : 1, 10, 16, 22

November / नवंबर :19

December / दिसंबर : 2, 3 , 8, 9

----------------------------------------------------------------------------

26 Nov '21 Friday

Copyrights 2020-21. Privacy Policy All Rights Reserved

footer images

Designed and Developed By | AIGS Pvt Ltd

whatsapp icon