Search Bar Design
Trimbak Mukut

"One of the divine Jyotirlinga among Twelve Jyotirlingas in India"
trimbak Mukut
Search Bar Design

हरिहर किले पर ट्रैकिंग | हरिहर गड का इतिहास | Harihar Fort

harihar fort

हरिहर किला (Harihar Fort) चट्टान के त्रिकोणीय प्रिज्म (Prism) पर बनाया गया है। इसके तीन फलक और दो किनारे एकदम लंबवत (90 डिग्री) हैं। तीसरा किनारा पश्चिम की ओर 75 डिग्री के कोण पर झुका हुआ है। किले पर चढ़ने और उतरने के लिए एक मीटर चौड़ी चट्टानी सीढ़ियां बनाई गई हैं. यह केवल एक किला है जिसमें किले पर चढ़ने के लिए "रॉक कट-स्टेप्स" (Rock Cut Steps) हैं।हरिहर किले को "हरीश किला" के नाम से भी जाना जाता है। "हर्षगढ़" (Harshgad) के नाम से भी जाना जाता है।

यह एक किला है जो महाराष्ट्र के नासिक(Nashik) जिले के इगतपुरी से 48 किमी दूर स्थित है।यह नासिक का एक महत्वपूर्ण किला है क्योंकि यह त्र्यंबकेश्वर श्रेणी में स्थित है, समुद्र तल से 3676 फीट की ऊंचाई पर है।यह अपने अजीबोगरीब रॉक-कट चरणों के कारण कई आगंतुकों को प्राप्त करता है।किले के दो गाँव हैं निर्गुड़पाड़ा और हर्षेवाड़ी नीचे स्थित हैं. निर्गुड़पाड़ा (Nirgud Pada) की तुलना में हर्षेवाड़ी की चढ़ाई अधिक आसान है।

Hariharfort

हरिहर गड का इतिहास (History Of Harihar Fort)

ब्रम्हागिरी (Bramhagiri) से लगभग 20 किमी पश्चिम में हरिहर किला, अहमदनगर के निजामशाह के कब्जे में था। 1636 में, शहाजी राजा ने पड़ोसी त्र्यंबकगढ़ पर कब्जा करते हुए इस किले पर विजय प्राप्त की। लेकिन बाद में यह मुगलों के हाथ में चला गया। बाद में 1670 में, मोरोपंत पिंगले ने इस किले पर विजय प्राप्त की और स्वराज्य के लिए मूल्य जोड़ा। उसके बाद किले पर 8 जनवरी, 1689 को मुगल सरदार मतब्बर खान ने कब्जा कर लिया था।

अंत में, 1818 में, एक ब्रिटिश अधिकारी कैप्टन ब्रिग्स (Captain Brigs) ने किले पर विजय प्राप्त की। उस समय अंग्रेज तोपों से किलों और किलों के प्रवेश द्वारों को नष्ट कर रहे थे ताकि उनका पुन: उपयोग न किया जा सके, लेकिन कैप्टन ब्रिग्स इस किले की सीढि़यों को देखकर हैरान रह गए | इस किले पर क़रीब दो सौ फीट (200 Ft) सीधी और खड़ी सीढ़ियाँ है। इसलिए किले पर विजय प्राप्त करने के बाद भी कैप्टन ब्रिग्स ने इन खूबसूरत सीढ़ियों को उध्वस्त नहीं होने दिया।

व्यापार के लिए महाराष्ट्र के विभिन्न बंदरगाहों पर माल उतारकर घाट मार्गों से नासिक बाजार तक पहुँचाया जाता था। त्र्यंबकेश्वर के घाट से गुजरने वाले गोंडा घाट पर नजर रखने के लिए हरिहर गढ़ (Harihar Gad) और भास्करगढ़ (Bhaskar Gad) का निर्माण कराया गया था। त्रिकोणीय आकार का हरिहर किला समुद्र तल से 1120 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

हरिहर गड के ऊपर शिवलिंग (Shivling) वाला एक मंदिर है और एक बड़ी गुफा है जिसमें कोई मूर्ति नहीं है। ऊपर से नज़ारा बहुत ही रोमांचक होता है। उत्तर में वाघेरा, दक्षिण में त्रिंगलवाड़ी, कावनाई और  वैतरणा धरण , पूर्व में ब्रह्मा, कपडा और ब्रह्मगिरि पर्वत और पश्चिम में फनी, बसगड़ और उत्वाड़ देख सकते हैं।

इस क्षेत्र की प्रमुख नदी वैतरणा (Vaitarna) है। लेकिन सह्याद्री का एकतरफा ढलान होने के कारण इस क्षेत्र से पानी बहता है। इस क्षेत्र में जनवरी से मार्च तक पानी की पूरी तरह से किल्लत रहती है।

किले के शिखर पर बिना उपकरण के थोड़ी आसान रॉक क्लाइंबिंग (Rock Climbing) के साथ पहुंचा जा सकता है।

हरिहर गड पर ट्रैकिंग | (Trekking on Harihar Fort)

हरिहर गड के चट्टान पर कुल 117 सीढ़ियां (Steps) हैं। इन सीढ़ियां के कारण  ट्रैकर (trekkers) को किले पर आसानी से चढ़ने में मदद होती है। सीढियोंपर छोटे गड्ढे किये है ,जिससे किले पर चढ़ने के लिए हमें व्यापक पकड़ (Grip) मिलती है। जब आप मुख्य प्रवेश द्वार तक चढ़ते हैं तो हम एक ओवरहैंग (Overhang) के नीचे से गुजरते हैं, उसकी दूसरी तरफ ब्रम्हा पहाड़ी की हवा का सामना करते हुए एक छोटे से रस्ते पर से जाना पड़ता है । फिर उसके बाद  खड़ी सीढ़ियों पर चढ़ना पड़ता है, फिर चट्टान के अंदर एक सीढ़ी से गुजरना पड़ता है और फिर किले के शीर्ष पर पहुंचना होता है। ऊपर से दृश्य उत्कृष्ट है।

इन सीढि़यों पर चढ़ने के बाद हम प्रवेश द्वार तक पहुंचते हैं। किले के बीच में एक ऊंचा स्तर है और उसके साथ एक पतला पठार है। पठार पर हनुमान जी और भगवान शिव का एक छोटा सा मंदिर है।
इस मंदिर के सामने एक छोटा तालाब है।यहां पर भगवान शिव का मंदिर है और 'पुष्करणी तीर्थ' नाम का तालाब है ,इस तालाब के पानी का उपयोग पीने के लिए किया जा सकता है।

यहाँ से आगे बढ़ते हुए हमें एक महल दिखाई देता है जिसमें दो कमरे हैं। इस पैलेस में 10 से 12 लोगों के ठहरने की व्यवस्था है। किले की खड़ी पहाड़ी में से एक पहाड़ी निर्गुडपाड़ा गांव के सामने है, जिसे 'स्कॉटिश कड़ा' (Scottish) कहा जाता है, शायद इसलिए कि नवंबर 1986 में डौग स्कॉट (Dogg Scott) द्वारा पहली बार इस पर चढ़ाई की गई थी, महान हिमालय पर्वतारोही और उन्हें चढ़ाई करने में दो दिन लगे। यह चट्टान करीब 170 मीटर ऊंची है।


हरिहर किले के अंतिम छोटे द्वार से गुजरने के बाद और थोड़ा आगे जाने पर आपको निचले बाएँ तरफ गुफा दिखाई देती है। लेकिन वहां पहुंचने के लिए आपको एक रस्सी की जरूरत होती है। किले के बगल में एक बड़ी झील है। पश्चिम दिशा में दीवार बनाकर झील के पानी को रोक दिया गया है। झील के किनारे हनुमान जी का मंदिर है और उसके बगल में शिवलिंग और नंदी हैं। किले के अंत में एक गोला बारूद डिपो भवन है।

किले के बीच में पन्द्रह-साठ फीट का एक छोटा सा शंकु बना हुआ है। इस पर चढ़कर पार किया जा सकता है। इसके बाद किले का सबसे ऊंचा स्थान आता है। किले के ऊपर से दृश्य मनमोहक है। वहां से पूर्व की ओर त्र्यंबक पर्वत श्रृंखला (Trimbakeshwar Mountain Range) का नजारा मनमोहक होता है।

उत्तर में वाघेरा किला और दक्षिण में कवनई और त्रिंगलवाड़ी किले।
उतरते समय सामने एक पत्थर होता है जो तीस फुट लम्बा और बारह फुट चौड़ा गुम्बदयुक्त सिर वाला होता है। पूर्व में, गोला बारूद वहाँ संग्रहीत किया गया था। कमरे का प्रवेश द्वार एक छोटी खिड़की की तरह है और दिन में भी अंधेरा रहता है। यह एकमात्र इमारत है जिसकी किले के ऊपर एक बरकरार छत है। वहां से सामने ब्रह्मा पर्वत बहुत ही सुंदर दिखाई देता है।

हरिहरगढ़ की यात्रा को पूरा करने में करीब दो से ढाई घंटे (2-3 Hr) का समय लगता है। उतरने के लिए भी  उसी रस्ते से जाना पड़ता है जहसे चढ़ते है |

जब आप किले को देखकर वापस आते हैं, तो आपको फिरसे सीधी सिढीयोंसे गुजरते है । इसलिए उतरते समय विशेष सावधानी बरतनी पड़ती है, उतरते समय सीढ़ीके अंदर वाले गड्ढे का उपयोग करके निचे आये। 

हरिहर गड की ट्रैकिंग के लिए कुछ जानकारी (Information Related To Harihar Trek)

मौसम(weather):-

गर्मी 21'c से 39'c
सर्दी 11'c से 29'c . तक
मानसून 18'c से 25'c

ऊँचाई(Height):- 3672 फीट।

हरिहर किले पर देखने लायक क्या क्या  है? : (places to watch on harihar Fort)

  • बरसात के दिनों में यह किला रास्ते में झरनों से आच्छादित रहता है।
  • खड़ी सीढ़ियाँ चढ़ती हैं जो ट्रेक का सबसे अच्छा और सबसे रोमांचकारी हिस्सा है।
  • सीढ़ी चढ़ने के ठीक बाद पहला दरवाजा है जिसे महा दरवाजा कहते है ।
  • महा दरवाजा से प्रवेश करने के बाद आपको फिर से सीढ़ियां चढ़नी पड़ती हैं लेकिन अब सीढ़ियां चढ़ते समय बीच-बीच में एक गुफा से होकर गुजरना पड़ता है।
  • शिव मंदिर और उसके सामने तालाब।
  • अगर किसी को किले की चोटी पर चढ़ना पसंद है, तो मंदिर से चोटी तक जाने का एक रास्ता है जहां आपको एक चट्टान पर चढ़ना होता है जो लगभग 10-15 फीट की ऊंचाई के करीब होती है।
  • मंदिर के आगे यात्रा करते हुए अधिक पानी के तालाब और एक महल है जिसमें 2 कमरे हैं जिसमें 10 से 12 लोगों के रहने के लिए पर्याप्त है।

हरिहर किले की यात्रा का सबसे अच्छा समय: - (Best Time to Visit Harihar Fort)

मानसून में यहां अब तक का सबसे अच्छा समय देखा है। विशेष रूप से जून से सितंबर में प्रकृति के कारण और यदि आप गर्मियों में जाते हैं तो यह आपके लिए एक बुरा विचार है।

जानवर:- (Animals)

यहां आप कुछ सांप, चील और बंदर देख सकते हैं। और लोग बंदरों से सावधान रहें क्योंकि वे आपका बैग और नाश्ता छीन सकते हैं।

भौगोलिक जानकारी (Geographical):-

यहां आपको कुछ दुर्लभ पेड़ और हरिहर का सबसे अच्छा हिस्सा जंगल का रास्ता मिल सकता है। यह छोटा जंगल है लेकिन आपको अपने तरीके से आनंद लेना चाहिए। यहाँ आप कुछ छोटी नदियाँ देख सकते हैं।
हरिहर किला जिसे हर्षगढ़ के नाम से भी जाना जाता है, महाराष्ट्र के नासिक जिले के इगतपुरी से 48 किमी दूर स्थित किला है।
यह नासिक जिले में एक महत्वपूर्ण किला है, और गोंडा घाट के माध्यम से व्यापार मार्ग को देखने के लिए इसका निर्माण किया गया था।


हरिहर गड पर  कैसे पहुंचा जाये ? (How To Reach Harihar Fort)

हरिहरगढ़ के लिए दो मुख्य मार्ग हैं, एक निर्गुडपाड़ा से और दूसरा हर्षवाड़ी से।

पहली सड़क: निर्गुडपाड़ा त्र्यंबकेश्वर-खोडाला मार्ग पर एक गाँव है। निर्गुडपाड़ा गांव त्र्यंबकेश्वर-खोडाला मार्ग पर त्र्यंबकेश्वर से 20 किमी की दूरी पर स्थित है। यह गांव हरिहरगढ़ और भास्करगढ़ किलों दोनों की तलहटी में है।

दूसरा मार्ग: हर्षवाड़ी गांव त्र्यंबकेश्वर-जवाहर मार्ग पर स्थित है, जो त्र्यंबकेश्वर से लगभग 5 किमी, सपगांव कांटे से 9 किमी दूर है। हर्ष वाडी से हरिहर किले तक पहुंचने में एक घंटे का समय लगता है। यह रास्ता आसान और कम थका देने वाला होता है।

18 Feb '22 Friday
roll roll

Copyrights 2020-21. Privacy Policy All Rights Reserved

footer images

Designed and Developed By | AIGS Pvt Ltd

whatsapp icon