Search Bar Design
Trimbak Mukut

त्र्यंबकेश्वर में त्रिपिंडी श्राद्ध करें।
जानिए पितृ दोष निवारण विधि।

"श्री क्षेत्र त्र्यंबकेश्वर में त्रिपिंडी श्राद्ध करने से होने वाले लाभ और उनका महत्व।"
trimbak Mukut
Search Bar Design
body-heading-design त्रिपिंडी श्राद्ध पूजा body-heading-design
TRIPINDI SHRADDHA

त्रिपिंडी श्राद्ध जिसे काम्य श्राद्ध भी कहा जाता है, यह श्राद्ध आत्माओं की स्मृति में अर्पित किया जाता है। आत्माओं को शांत करने के लिए यह पूजा मुख्य रूप से की जाती है। त्रिपिंडी श्राद्ध यह अनुष्ठान पिछली तीन पीढ़ियों के पूर्वजो के स्मृति में किया गया पिंड दान है। यदि परिवार में कोई भी पिछली तीन पीढ़ियों से युवा और वृद्धावस्था में गुजर गया है तो उन्हें मुक्ति देने के लिए त्र्यंबकेश्वर मंदिर के पास कुशावर्त तीर्थ पर यह अनुष्ठान करना चाहिए। यह दिवंगत आत्माओं की स्मृति में किया जाने वाला एक योगदान है। यदि इस त्रिपिंडी श्राद्ध को पिछले तीन वर्षों से सही तरीके से नहीं किया गया, तो मूर्त पूर्वज क्रोधित हो जाते है। इसलिए उनकी आत्मा को शांत करने के लिए यह त्रिपिंडी श्राद्ध संस्कार किया जाता है।

ज्यादातर लोगों को यह लगता है कि पिछले तीन पीढ़ियों के पूर्वजों (पिता-माता, दादाजी-दादी और उनके माता पिता ) जैसी पिछली तीन पीढ़ियों को संतुष्ट करने से यह अनुष्ठान संबंधित है। कोई भी व्यक्ति का निधन हुआ हो और वे अंतुष्ट हो तो ऐसी आत्माएं अपनी आने वाली पीढ़ियों को परेशान करती हैं। ऐसी आत्माओं को त्र्यंबकेश्वर में इस संस्कार "त्रिपिंडी श्राद्ध" करके अनन्त आत्माओं (परमधाम) के पास भेजा जाता है।

महत्वपूर्ण सूचना:

प्रिय यजमान (अतिथि) कृपया ध्यान दें कि ये त्र्यंबकेश्वर पूजा त्र्यंबकेश्वर में केवलताम्रपत्र धारक पंडितजी द्वारा की जानी चाहिए, वे प्रामाणिक हैं और युगों से प्राधिकार रखते हुए त्र्यंबकेश्वर मे अनेक पुजाये करते आ रहे है । आपकी समस्या और संतुष्टि का पूर्ण समाधान यहाँ होगा। हम चाहते हैं कि आप सबसे प्रामाणिक स्रोत तक पहुंचें।

यह अनुष्ठान, "त्रिपिंडी श्राद्ध" पूर्वजों को अपने वंशजों द्वारा किया जाता है, ताकि उन्हें कोई परेशानी न हो। प्राचीन ग्रंथ श्राद्ध कमलकर के अनुसार, यह कहा जाता है कि पूर्वजों का श्राद्ध एक वर्ष में लगभग ७२ बार किया जाना चाहिए। यदि यह कई वर्षों तक नहीं किया गया है, तो पूर्वज असंतुष्ट रहते हैं।

त्र्यंबकेश्वर में पूर्वजों के आत्माओ के लिए यदि श्राद्ध ना किया जाए, तो उससे वंशजों को कई तरह की परेशानियो का सामना करना पड़ सकता है। श्राद्ध अनुष्ठान पारंपरिक रूप से बुराई, शाकिनी, और डाकिनी के भूत आवेदन की यातना से मुक्त होने के लिए किया जाता है।

श्राद्ध क्यों किया जाता है?

प्राचीन गरुड़ पुराण के अनुसार, किसी भी व्यक्ति के मृत्यु के १३ दिनों के बाद उसकी आत्मा, यमपुरी के लिए अपनी यात्रा शुरू करती  है, और उसे वहां पहुंचने में १७ दिन लगते हैं। अगले ग्यारह महीने के लिए, आत्मा यात्रा करती है, और केवल बारह महीनों में, आत्मा  यमराज के दरबार में प्रवेश करती है। ग्यारह महीने की अवधि में आत्मा को भोजन और पानी नहीं मिलता। इसलिए, यह कहा जाता है कि "पिंडदान" और "तर्पण" परिवार के सदस्यों द्वारा यात्रा के दौरान मृत आत्मा की भूख और प्यास को संतुष्ट करने के लिए किया जाता है, जब तक कि आत्मा यमराज के दरबार में नहीं पहुँचती। यही कारण है कि श्राद्ध अनुष्ठान बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है।

त्रिपिंडी श्राद्ध पूजा (त्र्यंबकेश्वर):

TRIPINDI SHRADDHA PUJA AT TRIMBAKESHWAR NASIK

घर में झगड़े, सुख की कमी, अशांति, दुर्भाग्य, असामयिक मृत्यु, विवाह समस्या, असंतोष, संतान और आदि समस्याओं से बचने के लिए, पारंपरिक रूप से त्रिपिंडी श्राद्ध किया जाता है।

इस संस्कार में, त्रिदेव (भगवान ब्रह्मा, विष्णु और महेश) की पूजा की जाती है, जो क्रोध का प्रतिनिधित्व करते हैं। मृत आत्माओ की तकलीफो को दूर करने के लिए क्रमशः भगवान ब्रह्मा, विष्णु और महेश की पूजा की जाती है।

नासिक में स्थित त्र्यंबकेश्वर विभिन्न अनुष्ठानों को करने के लिए पवित्र और सर्वश्रेष्ठ स्थान के रूप में माना जाता है। त्र्यंबकेश्वर तीर्थक्षेत्रों है और १२ ज्योतिर्लिंगों में से एक है। इस पवित्र स्थान पर किसी भी पूजा, अनुष्ठान करने से उसका फल प्राप्त होता है। त्रिपिंडी श्राद्ध अनुष्ठान में नाम और पितरों के गोत्र का उच्चारण नहीं किया जाता है क्योंकि किसी को भी इस बात का ज्ञान नहीं है कि वे किस पूर्वजो के शाप से पीड़ित हैं।

धर्मशास्त्र के अनुसार,त्र्यंबकेश्वर में त्रिपिंडी श्राद्ध अनुष्ठान करने से हर असंतुष्ट और अप्रसन्न आत्मा को मोक्ष मिलता है । त्र्यंबकेश्वर में त्रिपिंडी श्राद्ध अनुष्ठान करने के लिए या पूछताछ के लिए, आप "हमसे संपर्क करें" के ऊपर खंड (सेक्शन) के माध्यम से जा सकते हैं, जहां आपको अपने पूर्वजों की त्रिपिंडी श्राद्ध करने के लिए हमारे पुरोहित की जानकारी मिलेगी।

त्रिपिंडी श्राद्ध विधी:

TRIPINDI SHRADDHA VIDHI

जब वृद्ध अवस्था मे किसी व्यक्ति का निधन हो जाता है, तो लोग पिंड दान, श्रद्धा और अन्य अनुष्ठान करते हैं, लेकिन जब किसी व्यक्ति का युवा अवस्था में निधन हो जाता है, तो सभी अनुष्ठान सही तरीके से नहीं होते हैं। जो आगे उनकी आत्मा को अमानवीय बंधन का कारण बनाती है, इसलिए त्रिपिंडी श्राद्ध करना आवश्यक है उन आत्माओं को मुक्त करने के लिए।

इनमें से कोई भी श्राद्ध अगर लगातार तीन वर्षों तक नहीं किया गया तो उस स्थिति में, यह श्राद्ध में खंड आ जाता है जो हमारे वर्तमान जीवन में हमारे पूर्वजों की आत्माओं को दर्द और समस्याओं का कारण बनता है क्योंकि पर्वज हमारे माध्यम से मुक्ति की उम्मीद करते हैं, जिसे पितृदोष के रूप में माना जाता है। त्रिपिंडी श्राद्ध प्राचीन धर्मग्रंथों में बताए गए इस पितृ दोष से छुटकारा पाने का एक सही तरीका है।

जिस व्यक्ति की जन्म कुंडली में पितृ दोष है, उसे अपने पूर्वजो के मोक्ष के लिए त्रिपिंडी श्राद्ध करना आवश्यक है। दोनों विवाहित और अविवाहित लोग त्रिपिंडी श्रद्धा प्रदान करने का अधिकार रखते है, लेकिन एक अकेली महिला इस अनुष्ठान त्रिपिंडी श्रद्धा नहीं कर सकती।

त्रिपिंडी श्राद्ध के लाभ:

BENEFITS OF DOING TRIPINDI SHRADDHA

त्रिपिंडी श्राद्ध अनुष्ठान, तीन पीढ़ियों से पहले के पूर्वजों को शांत करती है और केवल तीन पीढ़ियों (यानी, पिता, दादा और उनके पिता) तक ही सीमित है। तो यह आग्रह है कि इस पवित्र संस्कार को कम से कम हर बारह साल में एक बार किया जाए। इसके अलावा, अगर यह कुंडली में पितृ दोष के नाम से दिखाई दे, तो यह त्रिपिंडी श्राद्ध पूजा पितृ दोष के हानिकारक प्रभावों से मुक्ति के लिए सबसे अच्छा माना जाता है।

यदि पूर्वज उनके पीढ़ी द्वारा किये गए अनुष्ठान से प्रसन्न हैं, तो वे आशीर्वाद के रूप में संतान, समृद्धि और सुख के रूप में अपना आशीर्वाद प्रदान करते हैं, क्योकि हमारे पूर्वज भगवान के आशीर्वाद के समान हैं। पवित्र स्थान (त्र्यंबकेश्वर) में श्राद्ध किया जाने से, हमारे मृतक की आत्माओं को मोक्ष का मार्ग मिलता है, और परिवार को उनका आशीर्वाद मिलता है।

पूर्वजों का आशीर्वाद परिवार और परिवार के सदस्यों को रोग मुक्त और स्वास्थ रहने के लिए सुख और शांति प्रदान करता है। पूर्वजों के लिए यह पूजा करने के बाद, व्यक्ति को जीवन में प्रगति मिलती है। व्यावसायिक जीवन, विवाह, शिक्षा से संबंधित सभी समस्याओं का निवारण होगा। ऐसा कहा जाता है की, अगर कोई व्यक्ति अपने पूर्वजो के लिए त्रिपिंडी श्राद्ध समर्पित करता है तो उसे भी मोक्ष की प्राप्ति होगी।

त्रिम्बकेश्वर मै त्रिपिंडी श्राद्ध पूजा करवाने के कुछ नियम

  • त्रिपिंडी श्राद्ध पूजा करने से एक दिन पहले त्र्यंबकेश्वर आना आवश्यक है।
  • पुरुषोने पूजा के दिन सफेद कुरता एवं धोती पहनना जरुरी होता है एवं महिलाओंने सफेद साडी पहननी जरुरी है। काले वस्त्र पूजा में नहीं पहनना चाहिए।
  • पूजा के समय श्राद्धकर्ता केवल सात्विक भोजन यानी प्याज और लहसुन विरहित आहार करे।

त्रिपिंडी श्राद्ध की सामग्री

  • तीन देवताओंकी सोना, चांदी तथा ताम्र से निर्मित प्रतिमा।
  • पिंडदान के लिए काला तील, जौ, तथा चावल के बने पिंड।
  • ताम्र धातू से निर्मित ३ कलश, पुर्णपात्र, गंगाजल, गाय का दूध।
  • आसन, अगरबत्ती, रक्षा सूत्र, जनेऊ, रुद्राक्ष माला, फूल माला।
  • खीर, देसी घी, पंच रत्न, बर्फी, मिठाई, पंचमेवा, लड्डू, खोवा।
  • रुई बत्ती, माचिस, कपूर, अगरबती, घंटा, शंख, हवन पैकट।
  • पान के पत्ते, सुपारी, चावल, गेहूँ, हल्दी, सिंदूर, गुलाल।
  • नारियल, लोटा (बर्तन), हल्दी पाउडर, कुंकुम, रोली, लौंग, उपला।
  • मूंग, ऊड़द, शहद, चीनी, गुड़, दूध, ईलायची, केला, तुलसी का पत्ता।
  • पिली सरसों, भगुनी, परात, चना दाल, काला उरद, सरसों का तेल।

त्रिपिंडी श्राद्ध मुहूर्त २०२२ 

त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर के पास कुशावर्त तीर्थ पर त्रिपिंडी श्राद्ध पूजा की जाती है। त्रिपिंडी श्रद्धा पूजा के सही मुहूरत के लिए आपको त्रिम्बकेश्वर पंडितजी से संपर्क करना पड़ेगा। वो आपको आपकी कुंडली देख कर सही मुहूर्त बताएँगे।

FAQ's

त्र्यंबकेश्वर मे पूर्वजों की असंतुष्ट आत्मा को शांत करने के लिए त्रिपिंडी श्राद्ध विधी करने से इस दोष से छुटकारा प्राप्त होता है ।
श्राद्ध का अनुष्ठान यह एक योगदान है, जो मृत पूर्वजो की आत्माओं को शांत करने के लिए किया जाता है।
पंचमी, अष्टमी, एकादशी, तेरस, चौदस या श्रावण, कार्तिक पौष, माघ, फाल्गुन, वैशाख जैसे महीनो में त्रिपिंडी श्राद्ध करना चाहिए।
पितृ दोष के वजह से होने वाले सभी समस्याओं को दूर करने के लिए त्रिपिंडी श्राद्ध करने का सुझाया जाता है।
त्रिपिंडी श्राद्ध इस विधी को पूरा करने के लिए एक दिन की आवश्यकता होती है| यदि अन्य पुजाओ के साथ यह अनुष्ठान किया जाए तो ज्यादा समय की आवश्यकता है।
आम तौर पर, त्रिपिंडी श्राद्ध अनुष्ठान परिवार के मुख्य पुरुष द्वारा किया जाता है।
श्राद्ध अनुष्ठान करते समय, कुछ बताये गए पदार्थो के जैसे की प्याज, लहसुन का सेवन नहीं करना चाहिए।
तर्पणम् पूर्वजो के असंतुष्ट आत्माओ को तृप्त करने के लिए किया जाता है| जिसमे उन्हें भोजन, चावल, तिल और जल अर्पित करते है।
घर का आदमी उनकी ओर से या ब्राह्मण के माध्यम से भी कर सकता है।

अपना प्रश्न पूछें




-Chandan Tiwari Says
19-Jun-2022
meri kundali mei pancham bhaav mei budh aur rahu ki yuti hai mujhe Trpindi sharddh karne ke liye kaha gaya hai
Reply
-विवेक परमार Says
13-Jun-2022
नमस्कार मेरे पिताजी का स्वर्गवास एप्रिल 2021 में हुआ था । घर में किसी की भी शादी न होना और कलेह एक विपरीत समस्या है । कृपया उचित मार्गदर्शन करें । धन्यवाद।
Reply
-आचार्य सुभम Says
27-Aug-2022
संपर्क करें
-Himanshu sahu Says
27-May-2022
Shubh muhurat for tripindi shraddha in 2022
Reply
-Mahesh Says
27-May-2022
Tripind Shard karwana h
Reply
-Ramesh chandra Kesari Says
24-May-2022
Tripindi sradhy kya ghar mein bhi kar sakte hain ya prayagraj mein bhi kar sakte hain
Reply
-Dadaso Dnyandev Durge Says
13-May-2022
Muze tripindi shradha karna hai. Use kitana kharcha ayega. Aur kitane dinme rizalt milega. Aur puja ko kon baithana chahiye
Reply
-sandesh korgaonkar Says
18-Apr-2022
My both parent alive can i do Tripindi Sradha ? Rahu Place in 6 House And Sun Place In 10 House It is pitru dosh ?
Reply
-उमाशंकर मिश्र Says
12-Apr-2022
हमे त्रिपिंडी श्राद्ध करवाना है
Reply
-Arjun ram jat Says
05-Apr-2022
पितृ शांति के लिए पूजा करनी है
Reply
-सूर्य प्रकाश पाण्डेय Says
31-Mar-2022
पिता जीवित हो तो पुत्र अपने लिए पुत्र प्राप्ति के लिए त्रिपिण्डिय पूजा कर सकता है।
Reply
-महेंद्र सिंह Says
17-Mar-2022
जन्म ता.१७/०६/१९८३ समय १०:०० स्थान प्रतापगढ़ ( त्रिपिंडी श्राद्ध में कितना खर्च आता है) वहां रुकने का खर्च कितना आता है
Reply
-admin Says
31-Mar-2022
ऊपर दिए गए पंडितजी से संपर्क करे, वो आपको पूरा मार्गदर्शन करेंगे।
-राजेश नारायण दूबे Says
09-Mar-2022
महोदय क्या त्रिपिठी श्राद्ध वे व्यक्ति कर सकते हैं जिनके पिता जीवित हैं।
Reply
-अरविंद सिंह Says
21-Feb-2022
त्रिपिंडी श्राद्ध तथा रूद्राभिषेक करवाने में आने वाले खर्च कितना पड़ता है।
Reply
-admin Says
31-Mar-2022
ऊपर दिए गए पंडितजी से संपर्क करे, वो आपको पूरा मार्गदर्शन करेंगे।
-सुनील चौबे Says
05-Feb-2022
मेरे बड़े भाई और भाभी लगभग 10वर्षों से लापता हैं अब आशंका हैं की वे मृत्यु को प्राप्त कर चुके हैं क्या भाई भाभी के लिए त्रिपिंडी श्राद्ध किया जा सकता हैं
Reply
-admin Says
08-Feb-2022
upar diye gaye panditji ko contact kare wo apka margdarshan karenge
Load more

Copyrights 2020-21. Privacy Policy All Rights Reserved

footer images

Designed and Developed By | AIGS Pvt Ltd

whatsapp icon